Advertisements

poems

#Collaborations

Connaught Place by Arunima

1

People watching in Connaught Place Chai sutta in hand (I’m a coffee lover But what the hell) And I sit there Till poison turns to ash. Delhi is beautiful- For […]

Advertisements
#Collaborations

Looking For The Light by Arunima

0

This romanticization of the ‘troubled genius’ is something we need to let go of. No, it’s not okay to suffer – it doesn’t look cool. You’re not supposed to suffer to make good art. In fact, the clearer your mind, the better the art.

#हिंदी रचनायें

घर से घर तक

0

पच्चीस दिन बीत गए | सिंगापुर से दिल्ली, दिल्ली से छपरा, वहां से बेगूसराय, वहां से पटना और फिर दिल्ली – आज दिल्ली से सिंगापुर – ये बीता महीना काफ़ी […]

#Collaborations

Chaos by Arunima Gururani

1

Sometimes I feel trapped Like unsaid thoughts Chained to a body, Emotions that are meant to be screamed Are muffled and choked Under a thick blanket of society… I feel […]

#Features

Goodbyes Are A Tradition Now

4

I used to feel sad and emotional about goodbyes. Going from my In-Laws’ to my Mom’s, from my Husband’s to my Father’s or from my Brother’s to my Grandparents’ – […]

#हिंदी रचनायें

बस यूँ ही

4

तो एक और सफ़र ख़त्म हुआ… इस बार कई वर्ष बाद माँ के साथ लगभग बीस दिन रही… सिंगापुर से लेकर बेगूसराय तक का ये सफ़र बहुत ख़ूबसूरत रहा.. इस […]

#हिंदी रचनायें

माँ कहती है

3

जब हम छोटे थे मम्मी एक बात हमेशा कहती थी कि कोई भी तालीम कभी ज़ाया नहीं जाती | वो कहती थी कि जहाँ जो ज्ञान मिल रहा है – […]

#हिंदी रचनायें

खिलौने और बचपन

2

अक्सर घरों में बच्चों के लिए ढेर सारे सॉफ्ट टॉयज़ लाये जाते हैं | ये एक आम बात है | हमारे घर में भी काफी सारे सॉफ्ट टॉयज़ हैं लेकिन […]

#Collaborations #Updates

Certificates for #getpublished June Edition

0

#theventmachine feels proud to have such awesome writers on board… Many Congratulations to all winners once again… As promised, presenting your certificates today… Keep writing and All the best! 💥SURPRISE💥 […]

#हिंदी रचनायें

कोई क्यों चला जाता है

0

जब तक हैं और जो-जो हैं
प्यार, इज़्ज़त और वक़्त बाटें
पता नहीं
कब कौन साथ छोड़कर चला जाये
पता नहीं
कब हम ही इस दुनिया से चले जाएँ…

#हिंदी रचनायें

अस्तित्व

6

कि बटुए से झांकती वो शिल्पा की लाल बिंदी की पत्ती, एक अलग कहानी सुनाती है… तुम्हारे बदन पे जचती जीन्स और जैकेट से परे, किसी और पहचान की दास्तान […]

#हिंदी रचनायें

सफ़र को ख़ूबसूरत हमसफ़र ही बनाता है…

2

ये सच है… सही इंसान के साथ हाईवे के ढाबे पर बैठ कर एक प्याली चाय और पराठे में भी ख़ासियत नज़र आती है…. उसके साथ सफ़र इतना हसीं लगने […]

%d bloggers like this: