तो हमने बदल डाली अपनी मंज़िल

तो हुआ यूँ की सफ़र इतना लम्बा लगने लगा कि हमने अपनी मंज़िल ही बदल डाली |

निकले थे बरौनी के लिए; बीच में सौभाग्यवश छपरा पड़ रहा है जो की मेरे दादा दादी का घर है | तो तय किया कि यहीं उतर जाते हैं | उम्मीद है कि शाम तक पहुंच जाएंगे छपरा | बरौनी तक का सफ़र करने का मनोबल ट्रेन कि हर हाल्ट के साथ टूटता चला गया | छपरा आने का प्रोग्राम दो दिन बाद का था | उस टिकट के कैंसिल होने से जो पैसों का थोड़ा नुक्सान होगा, उससे एडजस्ट कर लियाहै मन ही मन |

अब बस यही उम्मीद लगा रहे की कम से कम छपरा रात होने से पहले आ जाये | छपरा में इस ट्रेन का राइट टाइम लगभग 3 बजे सुबह का था |

2 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s