मैं दंग हूँ

मैं दंग हूँ
लोगों के बचपने पे
उनकी बेवकूफियों पे
मैं दंग हूँ

कोई उम्र में छोटा है
तो उसको कुछ भी बोल दो
कोई काम पे नया है
तो उसके नाम पर खेल दो
मैं दंग हूँ

अपनी सीमाएं लाघने में इन लोगों को कोई शर्म नहीं
क्या कह रहे क्या कर रहे – इन चीज़ों में कोई तर्क नहीं
पलट के जवाब दो तो मुख यों सिल जाता हैं
जैसे मुहं में जुबां और ज़ेहन में कोई शब्द नहीं
मैं दंग हूँ

जो निकम्मे नकारे हैं, अपना काम ढंग से करते नहीं
वो बातें खुद पे आने पे आरोपवाद ही करते हैं
मैं दंग हूँ

जब सामने दे मारो दस्तावेज़ सबूतों का
तो उनकी हवाइयां कुछ ऐसे उड़ जाती हैं
जैसे जल बिन मछली पल पल
मर जाने को छटपटाती है
मैं दंग हूँ

ख़ुशी इस बात की होती है कि इस खोखले समाज में भी
अच्छे लोग मौजूद हैं
सच कहूँ, इस बात पे मैं ज़्यादा दंग हूँ!

जीत आखिर मेरी हुई सच की हुई
इस बात से मैं दंग हूँ
लेकिन हाँ! मैं खुश हूँ…

Advertisements
About Surabhi Pandey 283 Articles
A former TV Presenter at Doordarshan Delhi​, Surabhi is the author of 'Nascent Wings' and 'Saturated Agitation'. She is a freelance journalist focused on Lifestyle and Social commentaries. She has been writing in this space for six years. Her work has appeared in numerous media outlets, including the Times of India, YP SG, Lifestyle Collective, Youth Ki Awaaz and Re:ad Poetry among others. She also writes Tech articles that have appeared on Tech Collective, Kr Asia, SBO.SG, SYNC PR, Entrepreneur and e27. She is the founder of The Vent Machine.

4 Comments

  1. Nice poetry.
    Sachchai ki humesha jeet hoti hai vaqt chahe jo lage kabhi dekha hai andhere ne sawera na hone diya ho.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.